Indian Navy Day 2019: क्यों भारतीय नौसेना के इतिहास में 4 दिसंबर महत्वपूर्ण माना जाता है

Indian Navy Day 2019: क्यों भारतीय नौसेना के इतिहास में 4 दिसंबर महत्वपूर्ण माना जाता है

“Indian Navy Day 2019” : नमस्कार दोस्तों, आज हम जानेंगे कि भारत के इतिहास में 4 नवंबर इंडियन नेवी के लिए क्यों बहुत ही खास है।

Here’s Why December 4 Is Important in History of Indian Navy

Indian Navy Day 2019 : आज ही के दिन भारत में ऑपरेशन ट्रिडेंट के स्मरण में भारत नौसेना दिवस मनाया जाता है। कराची बंदरगाह पर सन् 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के समय भारतीय नौसेना द्वारा हमला किया गया था। पहली बार anti-ship भारत द्वारा किसी ऑपरेशन में इस्तेमाल किया गया था।

इस ऑपरेशन के दौरान भारत को कोई भी नुकसान नहीं हुआ था बल्कि 4 से 5 दिसंबर की रात को आयोजित किए हुए इस ऑपरेशन में पाकिस्तानी जहाजों को भारी नुकसान पहुंचाया गया था। यह हमारी Indian Navy की बहुत ही बड़ी जीत में से एक जीत थी। जो कि आज भी इतिहास में जानी जाती है।

इस ऑपरेशन के दौरान कराची बंदरगाह के ईंधन को तबाह कर दिया था और पाकिस्तानी जहाजों को पानी में बहा दिया गया था।

भारतीय नौसेना के तीन युद्धपोतों यानी Warships मैं पाकिस्तानी जहाजों को तबाह करने में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

  1. INS Nipat
  2. INS Nirghat
  3. INS Veer

गुजरात के ओखा पोर्ट से भारतीय नौसेना का बेड़ा पाकिस्तानी कराची बंदरगाह पर हमला करने के लिए रवाना हुआ था। Indian Navy का बेड़ा रात में कराची के 70 मील दक्षिण यानी South में पहुंच गया और मिसाइलों से हमला करने लगा और उस हमले के दौरान पाकिस्तान पोत-  PNS Khaibar पानी में डूब गया।

ऑपरेशन के दौरान जिस किसी भी भारतीय नौसेना कर्मी ने इस operation मैं हिस्सा लिया था, उन्हें वीरता पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था।

You May Also like this :

Final Words

हम उम्मीद करते हैं कि हमारे आगे Indian Navy पर दिया गया हुआ आर्टिकल आपको बहुत ही अच्छा लगा होगा और आप भी हमारे इतिहास की एक महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सके होंगे। जो कि आपको हमारे इंडियन नेवी के सम्मान में अच्छी लगी होगी। ऐसी और भी जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे ब्लॉग से जुड़े रहिए और हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर कर लीजिए इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, और हमारे साथ जुड़े रहने के लिए धन्यवाद।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *